पूर्व अधिकारी से लाखों की ठगी करने वाले आगरा से दो को दबोचा, हाउस अरेस्ट का दिखाया था डर

लखनऊ के गाजीपुर थाने का एक मामला सामने आया है, जिसमें पूर्व अधिकारी निरंजन सिंह नाम के व्यक्ति ने 25 मार्च को इंदिरा नगर थाने में एक मुकदमा दर्ज कराया था, जिसमें उनके द्वारा कहा गया था कि अज्ञात नंबर से फोन आया वही फोन पर बात करने वाला व्यक्ति खुद को कस्टम का अधिकारी बता रहा था। फोन पर बात कर रहे व्यक्ति ने निरंजन सिंह से कहा के आपका नाम से कंबोडिया का पार्सल बुक हुआ है, जिसमें कुछ जाली दस्तावेज पाए गए हैं, जैसे जाली पासपोर्ट एवं एटीएम कार्ड, साथ ही व्यक्ति ने कहा कि आपके ऊपर मनी लॉन्ड्रिंग का केस भी हो सकता है, इसी दौरान फोन पर बात कर रहे व्यक्ति ने निरंजन सिंह को डिजिटल हाउस अरेस्ट का फर्जी वारंट भेजा और 30.50 लाख रुपए उनसे ट्रांसफर करा लिए, फोन पर बात करते-करते उसे व्यक्ति ने कहा कि आपकी कॉल एनआईए और सीबीआई के अधिकारियों को ट्रांसफर की जा रही है।

जिससे निरंजन सिंह डर गए और गिरफ्तारी के डर से 30.50 लाख उसके द्वारा बताए हुए खाते में ट्रांसफर कर दिए, अब इसी मामले में लखनऊ पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए आगरा से इस गैंग के दो सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार किया है, पुलिस ने शास्त्रीपुरम के अपर्णा प्रेम अपार्टमेंट से राजीव भसीन उर्फ राजू और शांता कुंज बेलनगंज से मोहित उर्फ नानू को गिरफ्तार किया है। इन दोनों के द्वारा पूरे देश से 39 लोगों के साथ ठगी की गई है, और इनके खाते में 1 करोड़ 68 लाख रुपए का ट्रांजेक्शन भी मिला है। इस तरह के फ्रॉड से आमजन को सावधान रहने की जरूरत है। अगर ऐसा कोई फ्रॉड कॉल आपको आता है तो साइबर सेल के हेल्पलाइन नंबर 1930 पर तत्काल शिकायत कर सकते हैं।

नगर निगम में जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने वाले पांच दलालों पर कसा शिकंजा

नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल के निर्देशन में प्रवर्तन दल की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है। जिसमें नगर निगम के जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र जल्दी बनवाने व दिलवाले का काम करने वाले पांच दलालों को दबोचा है, नगर निगम के द्वारा लगातार ऐसे दलालों पर कार्यवाही की जा रही है। जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया होती है, लेकिन यह दलाल गेट पर बैठे रहते हैं, और जल्द ही जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने की बात कहते हैं।

अब नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल के निर्देश में प्रवर्तन दल की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है, और पांच दलालों पर शिकंजा कसा है, प्रवर्तन दल की टीम के द्वारा पांचों दलालों को थाना हरी पर्वत पुलिस के सुपुर्द किया गया, पुलिस ने इनके खिलाफ शांति भंग में कार्यवाही की है।

जिलाधिकारी ने जिला स्वास्थ्य समिति की की बैठक, आलाधिकारी रहे मौजूद

जिलाधिकारी भानु चन्द्र गोस्वामी की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक सम्पन्न हुई, मातृ मृत्यु, बाल मृत्यु, बच्चा की एक भी मृत्यु नहीं स्वीकार्य, आशाओं द्वारा सघन मॉनिटरिंग, गर्भवती माताओं की प्रसव पूर्व सघन जांच तथा काउंसलिंग कराने के दिए कड़े निर्देश है। प्रभावी मॉनीटरिंग व सघन समीक्षा हेतु जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा अर्बन/ग्रामीण की आगामी माह से अलग-अलग होंगी समीक्षा बैठक बैठक में जिलाधिकारी ने जनपद में डाक्टरों की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली तथा सीटीस्कैन, डायलेसिस, बायोमेडिकल इक्यूपमेंट, मेंटिनेंस, टेलीमेडिशन आदि की प्रगति रिपोर्ट तलब की, 102 एम्बुलेंस सर्विस व 108 एम्बुलेंस सर्विस की टाइमिंग के बारे में जानकारी ली। बैठक में जननी सुरक्षा योजना की समीक्षा की गयी, जिसमें गत वर्ष के सापेक्ष माह अप्रैल में विकास खण्ड, फतेहाबाद में 34, किरावली 22, आंवलखेड़ा 13, अकोला 08, फतेहपुर सीकरी 10 व जिला महिला चिकित्सालय में 69 प्रसव कम हुए, जिस पर जिलाधिकारी द्वारा कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा सभी एमओआईसी को निर्देशित किया कि आशा सहायतित प्रसव सेवा में उल्लेखनीय प्रगति न होना बताता है कि आशा व एमओआईसी द्वारा गम्भीरता पूर्वक कार्य नहीं किया जा रहा है।

उन्होंने सम्बन्धित एमओआईसी से विगत तीन माह की डाटा की जांच करने, कितने प्रसव निजी अस्पतालों व सरकारी अस्पतालों में हुए, की सूची बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने शहर से लगे ब्लॉक क्षेत्रों के एमओआईसी को सजगता बढाने तथा आशाओं द्वारा प्राइवेट अस्पतालों में प्रसव कराने की जांच करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने सभी एमओआईसी को चेतावनी दी कि किसी भी गरीब, कमजोर आदमी को निजी अस्पताल में प्रसव कराये जाने की शिकायत प्राप्त होने पर कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। बैठक में आशा सहायतित प्रसव सेवा के भुगतान की समीक्षा में बताया गया कि कुल 6384 कराये गये प्रसवों में से 2247 प्रसवों का लाभार्थियों को भुगतान किया गया है, जिसमें विकास खण्ड फतेहपुरसीकरी 0.7 प्रतिशत, खन्दौली 18 प्रतिशत, जिला महिला अस्पताल 24 प्रतिशत ही भुगतान किया गया है, जिलाधिकारी ने सम्बन्धित सभी भुगतानों को स्वयं लाभार्थी के घर जाकर 30 मई तक शतप्रतिशत भुगतान कराने के निर्देश दिए, लाभार्थी को दुबारा बुलाया तो स्वीकार योग्य नहीं होगा।

बैठक में जनपद में निष्कासित की गई आशाओं की सूची को रखा गया, जिसमें बताया गया कि ब्लॉक खन्दौली में 07, सैयां में 05, बरौली अहीर, जगनेर, बिचपुरी तथा शहर में 04-04 शमशाबाद में 03 व खेरागढ़ 02 सहित कुल 40 आशाओं को निष्कासित किया गया। जिलाधिकारी ने सभी आशाओं के मानदेय व इंटेंसिव का ससमय भुगतान सुनिश्चित करने, तथा भुगतान न होने पर किसी भी एमओआईसी का स्थानान्तरण न करने के कड़े निर्देश दिए। बैठक में जिलाधिकारी ने मातृ मृत्यु दर की समीक्षा की, जिसमें बताया गया कि जनपद में माह अप्रैल में 02 मातृ मृत्यु दर्ज की गई है, कारण पूछे जाने पर बताया गया कि उक्त मृत्यु ब्लॉक फतेहपुर सीकरी व बिचपुरी में दर्ज की गई है तथा मृत्यु का कारण पीपीएच, एनीमिया व ब्लड प्रेशर लो होना बताया गया। मातृ मृत्यु जिलाधिकारी ने सभी केसों की लाइन लिस्टिंग किये जाने तथा सम्बन्धित एमओआईसी, आशाओं द्वारा सभी गर्भवती माताओं की सघन मॉनीटरिंग व जांच के निर्देश दिए। मातृ मृत्यु न होने पाये इसके लिए आशाओं को अलग से मॉनीटरिंग करने, गर्भवती महिला के रजिस्ट्रेशन के प्रथम दिन से ही ध्यान देने हेतु निर्देशित किया।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती प्रतिभा सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अरूण कुमार श्रीवास्तव, डीपीएम श्री कुलदीप भारद्वाज, डब्ल्यूएचओ से श्रीमती महिमा, श्री अरविन्द शर्मा, राहुल कुलश्रेष्ठ सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

चौथ देने पर मिट्टी खोदने वाली मशीन में क्षेत्रीय दबंगों ने लगाई आग

थाना मलपुरा क्षेत्र के अंतर्गत भांडई स्टेशन से कीठम रेलवे लाइन डालने का कार्य चल रहा है, वहीं रेलवे लाइन के सहारे मिट्टी की खुदाई भी चल रही है। इसी दौरान मिट्टी खुदाई के ठेकेदार ने थाना मलपुरा पर तहरीर दी है, कि कुछ क्षेत्रीय दबंग के द्वारा 1 लाख रुपए चौथ मांगी जा रही है, इसका विरोध करने पर मिट्टी खुदाई करने वाली मशीन में आग लगा दी है।

जानकारी के अनुसार मिट्टी खोदने वाली मशीन पर दबंगों ने ज्वलनशील पदार्थ डाला और उसमें आग लगा दी, घटना के मशीन ऑपरेटर ने कूद कर अपनी जान बचाई है, तस्वीरों में आप देख सकते हैं मिट्टी खुदाई करने वाली मशीन में किस तरह से आग लगी हुई है। ठेकेदार बृजेश शर्मा की शिकायत पर 10 नाम से लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

अंतर्राष्ट्रीय जैविक विविधता दिवस के अवसर पर आगरा में हुआ राष्ट्रीय स्तर का कांक्लेव का आयोजन

आज होटल मुगल शेरेटन में राष्ट्रीय स्तर का कॉन्क्लेव आयोजित हुआ। यह कॉन्क्लेव इंडो अमेरिकन चैम्बर ऑफ कॉमर्स के सहयोग से हुआ, हर साल 22 मई का दिन दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय जैविक विविधता दिवस के रूप में मनाया जाता है, इसी को लेकर यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस राष्ट्रीय सेमिनार में अपर मुख्य सचिव मनोज सिंह मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। इस कॉन्क्लेव की थीम ‘जैव विविधता आयोजन का हिस्सा बनें थी। जिससे लोग इसके प्रति जागरूक बने। जैव विविधता एक क्षेत्र या पारिस्थितिकी तंत्र में पाए जाने वाले जीवन की विविधता – मनुष्य, जानवर, पौधे, कवक और बैक्टीरिया और कवक आदि जैसे सूक्ष्मजीवों को संदर्भित करती है। पारिस्थितिकी तंत्र एक भौगोलिक क्षेत्र को संदर्भित करता है जिसमें जीवित चीजें, जैसे कि मनुष्य, पौधे, जानवर, आदि और निर्जीव चीजें, जैसे चट्टानें, पानी, तापमान, आर्द्रता आदि शामिल हैं।

लाखों विशिष्ट जैविक की कई प्रजातियों के रूप में पृथ्वी पर जीवन उपस्थित है और हमारा जीवन प्रकृति का अनुपम उपहार है। अत: पेड़-पौधे, अनेक प्रकार के जीव-जंतु, मिट्टी, हवा, पानी, महासागर-पठार, समुद्र-नदियां इन सभी प्रकृति की देन का हमें संरक्षण करना चाहिए,  इसमें विशेष तौर पर वनों की सुरक्षा, संस्कृति, जीवन के कला शिल्प, संगीत, वस्त्र-भोजन, औषधीय पौधों का महत्व आदि को प्रदर्शित करके जैव विविधता के महत्व एवं उसके न होने पर होने वाले खतरों के बारे में जागरूक किया जा रहा है। 

ब्रांडेड कंपनी के नाम से बन रही थी नकली इलेक्ट्रिक स्कूटी, छापेमारी में हुआ भंडाफोड़

आगरा में एक ब्रांडेड कंपनी के नाम से नकली इलेक्ट्रिक स्कूटी तैयार की जा रही थी, और अच्छे दामों में उन्हें बाजारों में खफाया भी जा रहा था, इस पूरे मामले का भंडाफोड़ तब हुआ जब कंपनी के अधिकारियों ने पुलिस के साथ मिलकर छापे मार कार्यवाही की।

आगरा थाना रकाबगंज क्षेत्र के बालूगंज में नकली इलेक्ट्रिक स्कूटी तैयार की जा रही थी, और उन्हें लगभग ₹60000 में बेचा जा रहा था, ब्रांडेड कंपनी के स्टिकर लगाकर यह स्कूटी बेची जा रही थी और मुनाफा कमाया जा रहा था छापेमारी कर कंपनी के अधिकारियों और पुलिस ने सात स्कूटी मौके से बरामद की, और एक व्यक्ति को हिरासत में लिया। फ्रेंजा इलेक्ट्रिक व्हीकल प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ रितेश बंसल ने बताया के आज पुलिस की मदद से चावला एंड संस से बालूगंज पर छापेमारी की गई, जिसमें मौके से साथ स्कूटी बरामद की गई है अधिकारी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि बालूगंज में लोगो और ब्रांड के नाम से नकली इलेक्ट्रिक स्कूटी बनाई जा रही थी इसको लेकर हमने पूर्व में भी इन्हें एक नोटिस दिया था।

लू प्रकोप हीटवेव से बचाव हेतु जिला प्रशासन ने जारी किए दिशा निर्देश।

अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) श्रीमती शुभांगी शुक्ला ने अवगत कराया है कि प्रमुख, भारत सरकार पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, भारत मौसम विज्ञान विभाग, राज्य मौसम पूर्वानुमान केन्द्र लखनऊ के मौसम पूर्वानुमान बुलेटिन से प्राप्त सूचना के अनुसार 22 से 26 मई 2024 के मध्य में अन्य जनपदों के साथ-साथ जनपद आगरा में हीटवेव (लू) चलने की सम्भावना हैं। हीटवेव (लू) असामान्य रूप से उच्चतम तापमान की अवधि है, जब तापमान सामान्य तापमान से अधिक दर्ज किया जाता है। आगामी दिनां में जनपद में परिस्थितियां हीटवेव (लू) के अनुकूल बनी हुई है। उन्होंने आगे यह भी अवगत कराया है कि उच्च आद्रता तथा वायु मंडलीय परिस्थितियों के कारण उच्च तापमान लोगो को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है, जिसके कारण शरीर में पानी की कमी (डिहाईड्रेशन) एवं ऐंठन की शिकायत आती है और कभी-कभी इसके कारण लोगों की मौत भी हो जाती है। शहरी क्षेत्रा में तापमान उच्चतम हो जानें से अर्बन हीट आइलैंड की स्थिति बन जाती है। हीटवेव (लू) से वृध, बच्चे, गर्भवती महिलायें, बीमार, मजदूर, गरीब, दुर्बल एवं निराश्रित लोग अधिक प्रभावित होतें है। जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण कार्यालय आगरा हीटवेव/लूप्रकोप से बचाव हेतु निम्न बातों की ओर ध्यान आकर्षित कराना चाहता है।

कडी धूप में विशेष रूप से दोपहर 12 बजे से 03 बजे के बीच बाहर जाने से बचें। हल्के रंग के ढीले-ढाले और सूती कपडे पहनें। धूप में निकलते समय अपना सिर ढक कर रखें, कपडे, टोपी या छाता का उपयोग करें। पर्याप्त और नियमित अन्तराल पर पानी पीते रहें। सफर में अपनें साथ पीने का पानी हमेशा रखें। खुद को हाइड्रेट रखने के लिए ओ०आर०एस० घोल नारियल का पानी, लस्सी, चावल का पानी, नीबू का पानी, छांछ, आम का पन्ना इत्यादि घरेलू पेय पदार्थो को इस्तेमल करें। रेडियो, टीवी और समाचारपत्रो के माध्यम से स्थानीय मौसम एवं तापमान की जानकारी रखें। कमजोरी, चक्कर आने या बीमार महसूस होने पर तुरन्त डॉक्टर से सम्पर्क करें। अपने घर को ठंडा रखे, पर्दे, शटर आदि का इस्तेमाल करें तथा रात में खिडकियां खुली रखें।

जीएसटी विभाग ने आगरा में कोचिंग संस्थान पर की बड़ी कार्रवाई, जानिए पूरा मामला

रोहता स्थित गढ़ी ठाकुरदास में संचालित कोचिंग संस्थान होराइजन पर जीएसटी विभाग के द्वारा सर्वे की कार्यवाही की गई है, जिसमें टैक्स चोरी का मामला सामने आ रहा है, कई महीनो से कोचिंग संस्थान होराइजन का विभाग के द्वारा रैकी जा रही थी, जब जीएसटी विभाग के द्वारा सर्वे किया गया तो विभाग को बड़ी गड़बड़ी हाथ लगी है। सरकार की कंपाउंडिंग स्कीम के नाम पर टैक्स चोरी का घाल मेल हो रहा था,

सरकार के द्वारा दी जा रही कंपाउंडिंग स्कीम का यह लाभ ले रहे थे, लेकिन इनके द्वारा तय सीमा से ज्यादा का लाभ लिया जा रहा था, सर्वे की कार्रवाई में जीएसटी विभाग ने मौके से जरूरी दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक सामान को जब्त किया है। जानकारी के अनुसार यह एक परसेंट कंपाउंडिंग स्कीम का लाभ ले रहे थे, लेकिन अब तक यह कंपाउंडिंग स्कीम के पात्र नहीं हैं। जीएसटी विभाग के द्वारा अन्य पहलुओं की भी जांच की जा रही है।

ड्रग विभाग के द्वारा जांच के लिए भेजे गए नमूने हुए फेल, कई दवा विक्रेताओं के लाइसेंस किए गए निरस्त।

बीते दिनों औषधि विभाग के द्वारा आगरा की फव्वारा मार्केट में छाप मार कार्यवाही की गई थी जिसमें इस दौरान शिव मेडिकोज हर्षित मेडिकल स्टोर महामृत्युंजय लाइफ साइंसेज के यहां छापा मार कार्रवाई की गई थी, कार्रवाई के दौरान कई जिलों की औषधि विभाग की टीम में शामिल थी, और छापे के दौरान बड़ी मात्रा में संदिग्ध दवाइयां को सील भी किया गया था, नकली होने की आशंका के चलते कई दवाइयां के नमूने भी कलेक्ट किए गए थे।

औषधि विभाग के द्वारा जांच के लिए भेजे गए नमूनों में से 39 दवा के नमूने फेल साबित हुए हैं। लैब की रिपोर्ट आने के बाद यह खुलासा हुआ है, जानकारी के अनुसार कई नामी ग्रामी कंपनियों के नाम से नकली दबाए बनाई जा रही थी, वही रिपोर्ट आने के बाद औषधि विभाग ने 45 दवा विक्रेताओं के लाइसेंस भी निरस्त किए हैं। औषधि विभाग के द्वारा दोषी पाए गए 12 कंपनियों व फर्म मालिकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की गई है।

ड्रग असिस्टेंट कमिश्नर अतुल उपाध्याय जानकारी देते हुए बताया है कि पिछले वित्तीय वर्ष में भेजे गए नमूने से 39 दावों के नमूने फेल हुए हैं, और दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। दोषी फर्म मालिकों सहित 12 कंपनियों पर मुकदमे में दर्ज कराए गए हैं। ड्रग असिस्टेंट कमिश्नर अतुल उपाध्याय ने आमजन से अपील की है, कि किसी अच्छी और भरोसेमंद दुकान से ही दवाइयां की खरीदारी करें एवं दवाई का बिल अवश्य लें, और दवाई पर QR कोड होता है, उसे स्कैन करके दवाई की डिटेल, नाम, पता सब कुछ जांच करने के बाद ही दवाइयां खरीदें, अगर कोई दुकानदार बिल देने से मना करता है, तो उसकी औषधि विभाग में शिकायत जरूर करें।

5 दिनों से छात्र था लापता, रेलवे ट्रैक के पास गंभीर अवस्था में मिला, इलाज के दौरान हुई मौत

आगरा के थाना एत्मादपुर क्षेत्र के अंतर्गत नगला तुलसी का रहने वाला दसवीं का छात्र 17 वर्षीय नवीन बीते 5 दिनों से लापता था, नवीन ने इसी वर्ष दसवीं की परीक्षा पास की है, परिजनों के द्वारा छात्र की खोजबीन की गई लेकिन छात्र का कोई पता नहीं चल सका, इसी को लेकर परिजनों के द्वारा थाना एत्मादपुर पर गुमशुदगी दर्ज कराई गई। एत्मादपुर पुलिस जांच पड़ताल में जुटी हुई थी,

इसी कड़ी में जिला फिरोजाबाद के नगला सिंघी रेलवे ट्रैक के पास गंभीर अवस्था में 17 वर्षीय छात्र नवीन मिला, राहगीरों व ग्रामीणों ने जब गंभीर अवस्था में देखा तो इसकी सूचना इलाका पुलिस को दी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर युवक को फिरोजाबाद के जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया, लेकिन गंभीर घायल छात्र ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया, छात्र शिनाख्त के लिए पुलिस के द्वारा सोशल मीडिया का भी सहारा लिया गया एवं पोस्टर भी चस्पा किए गए, इसकी सूचना मृतक छात्र नवीन के परिजनों को हुई तो परिजनों में कोहराम मच गया, परिजन एवं ग्रामीण एकत्रित होकर सीधा थाना एत्मादपुर पहुंचे जहां पुलिस की कार्यशाली पर सवाल उठाए एवं जमकर हंगामा कांटा, परिजनों का कहना है कि अगर पुलिस ने तत्परता दिखाई होती, हमारे बच्चे को खोजने का प्रयास किया होता तो आज हमें यह दृश्य नहीं देखना पड़ता।

थाना एत्मादपुर के नगला तुलसी निवासी गंगा राम गांव में ही दुकान करते हैं, जिससे वह अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। उनका 17 वर्षीय बेटा नवीन 18 मई को लापता हो गया था, उनके द्वारा थाना एत्मादपुर पर गुमशुदगी भी दर्ज कराई गई थी, अब अचानक आई मौत की खबर से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है, और परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। एसीपी सुकन्या शर्मा ने बताया है कि मामले का खुलासा करने के लिए टीमों का गठन कर दिया गया है। अगर छात्र के साथ कोई अनहोनी हुई है तो दोषियों को बक्शा नहीं जाएगा और दोषी जल्दी ही पुलिस की गिरफ्त में होंगे, छात्र की कॉल डिटेल भी खंगाली जा रही है। जिससे पता चल पाएगा कि छत्र ने किस किस से बात की थी।

स्वास्थ्य विभाग ने अवैध नशा मुक्ति केंद्र पर मारा छापा, नशा मुक्ति केंद्र में मिली बीड़ी और तंबाकू

स्वास्थ्य विभाग के द्वारा आगरा में अवैध नशा मुक्ति केंद्रों पर छापे मारे गए हैं। जिसमें एसीएमओ के निर्देशन में राजीव नगर स्थित पहलवान नशा मुक्ति केंद्र एवं मऊ स्थित आदेश नगर कॉलोनी में उजाला नशा मुक्ति केंद्र पर स्वास्थ्य विभाग ने छापे मारे हैं, इस दौरान पहलवान नशा मुक्ति केंद्र में स्वास्थ्य विभाग की टीम को 57 मरीज मिले, मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग की टीम से नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारियों के द्वारा मारपीट करने का आरोप लगाया है। इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम के द्वारा मरीजों के पास से तंबाकू का बीड़ी भी मिली है। वही मऊ स्थित आदेश नगर कॉलोनी में उजाला नशा मुक्ति केंद्र पर स्वास्थ्य विभाग ने छापा मारा है। जिसमें 27 मरीज भर्ती किए गए थे, जानकारी के अनुसार यह केंद्र अवैध रूप से संचालित किया जा रहा था, जिसमें एक मरीज को भर्ती करने के ₹10000 और ACकमरे के ₹15000 वसूलने का भी आरोप है,

आदेश नशा मुक्ति केंद्र को सुनील गुलाटी के नाम का व्यक्ति चल रहा था। पहलवान नशा मुक्ति केंद्र को सुरेंद्र पाल नाम का व्यक्ति चल रहा था, जो कि खुद को पथौली का निवासी बता रहा था लेकिन वह हरियाणा का निवासी निकला है, इस दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मरीजों के परिजनों को सूचित कर दिया है, कि अपने मरीज को यहां से ले जाकर किसी अन्य अस्पताल में भर्ती कराएं, क्योंकि यह दोनों ही अवैध रूप से संचालित नशा मुक्ति केंद्र हैं, और उनके ऊपर कारवाई की जाएगी।

लू प्रकोप से बचाव के लिए प्रशासन ने जारी किया ऑनलाइन लिंक

लिंक पर क्लिक करके आपदा में अपनी भागीदारी दर्ज करा सकता हैं।

https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSelvSLxr8IRCm83QnFk1L6uEqq5VUjwGFkhavumAQTfaB70Fg/viewform?usp=sf_link

आगरा वासियों को भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है, और तापमान भी 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच चुका है। इसी के लिए प्रशासन की ओर से आमजन के बचाव के तरीके खोजे जा रहे हैं, जिसमें लू प्रकोप से बचाव के लिए ऑनलाइन लिंक के माध्यम से आपदा प्रबंधन द्वारा अभियान चला कर लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जिसमें लिखा गया है हारेगा गर्मी जीतेगा आगरा।

अपर जिलाधिकारी शिवांगी शुक्ला(वि0/रा0) द्वारा दिए निर्देशों के क्रम में आपदा विशेषज्ञ शिव कुमार मिश्रा द्वारा बढ़ते लू प्रकोप से बचाव हेतु ऑनलाइन लिंक बनाकर अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत प्रत्येक नागरिक को लिंक के माध्यम से शपथ दिलाई जा रही है, उन्होंने अभियान के तहत प्रत्येक नागरिक से अनुरोध किया है, कि लिंक के माध्यम से लू प्रकोप बचाव हेतु प्रतिज्ञा लें व अन्य व्यक्तियों को भी प्रेरित करें, यह पहल समस्त नागरिकों के द्वारा एक जागरूक सशक्त समुदाय बनाने में आपका योगदान दर्ज करती है, और आपदा में आपकी भागीदारी हम सब की जिम्मेदारी है।

बिना मानचित्र स्वीकृति के बने अवैध निर्माणों को किया गया सील।

ताजगंज वार्ड के अंतर्गत शहीद नगर शमशाबाद रोड पर बिना मानचित्र स्वीकृति के अवैध निर्माण किए जाने पर आगरा विकास प्राधिकरण के द्वारा बड़ी कार्यवाही की गई है, जिसमें मानचित्र स्वीकृति के विपरीत अवैध निर्माण किए जाने पर प्राधिकरण ने सील लगाई है, सील बंद किए गए परिसर में स्थल निरीक्षण में सील क्षतिग्रस्त एवं अवैध निर्माण में दुकान संचालित पाई गई। इस दौरान अवैध निर्माण पर कारण बताओं नोटिस चस्पा किया गया है, विकास कार्य की नोटिस दिनांक 2–1–2024 को निर्गत कराई गई थी, प्रभारी निरीक्षक थाना सदर बाजार आगरा को विकास कार्य रुकवाने हेतु विभागीय पत्र प्रेषित किया गया था,

इस संबंध में विपक्षी को सुनवाई हेतु नियत तिथि दी गई थी, नियत तिथि पर विपक्षी द्वारा उपस्थित होकर प्रार्थना पत्र के साथ स्वीकृत मानचित्र एवं स्वामित्व संबंधी प्रपत्रों की छाया प्रति प्रस्तुत कर स्वीकृत मानचित्र से अधिक निर्माण होने पर निर्माण को समन करने का उल्लेख किया गया परंतु निर्माणकर्ता के द्वारा निर्माण के समन हेतु समन मानचित्र प्रस्तुत नहीं किए गए जिसके क्रम में विपक्षी के निर्माण को सील बंद कर दिया गया है।प्रभारी प्रवर्तन के निर्देशन में एवं सहायक अभियंता के नेतृत्व में प्राधिकरण की प्रवर्तन टीम द्वारा सचल दस्ता के सहयोग से यह बड़ी कार्रवाई की गई है। इस कार्रवाई से अवैध निर्माण करने वालों में हड़कंप मचा हुआ है।

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में मतगणना की तैयारी को लेकर की गई वृहद समीक्षा बैठक

बैठक में मतगणना से सम्बन्धित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा करते हुए जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि मतगणना हेतु सभी आवश्यक प्रपत्र यथाशीघ्र छपवाकर उनके टेबलवार पैकेट्स 30 तारीख तक बनवाना सुनिश्चित कर लिया जाए, साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई भी प्रपत्र छूटने न पाये। उन्होंने बताया कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतगणना में लगे कार्मिकों का रैण्डमाइजेशन प्रातः 05 बजे पूर्ण किया जायेगा तथा उन्हें आवश्यक प्रपत्रों के पैकेट्स उपलब्ध कराते हुए सम्बन्धित मतगणना टेबल पर प्रातः 07 बजे तक उपस्थिति सुनिश्चित कर ली जाए, ताकि मतगणना समय से प्रारम्भ की जा सके। उन्होंने निर्देशित किया कि स्ट्रांग रूम खोलने के दौरान उसकी वीडियोग्राफी कराई जाए तथा आयोग के निर्देशानुसार अग्रिम कार्यवाही सुनिश्चित की जाय। उन्होंने निर्देश दिए कि मतगणना हेतु नियुक्त माइक्रो आब्जर्वर का प्रशिक्षण यथाशीघ्र पूर्ण कराना सुनिश्चित किया जाय तथा एक प्रशिक्षण सम्बन्धित प्रेक्षक महोदय की उपस्थिति में कराया जाए। उन्होंने मतगणना कार्मिकों को भी प्रशिक्षण दिए जाने के निर्देश दिए।

बैठक में जिलाधिकारी ने समस्त एआरओ को निर्देशित किया कि मतगणना को पारदर्शी बनाये जाने एवं आयोग के निर्देशानुसार विभिन्न राजनैतिक दलों के मतगणना एजेंटों को परिचय पत्र विधानसभावार अलग-अलग कलर कोड के जारी किये जायें, जिस पर जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किये जायेंगे। इसी प्रकार मतगणना कार्मिकों तथा मतगणना के अन्य कार्यों हेतु नियुक्त कार्मिकों के भी परिचय पत्र अलग-अलग कलर कोड के कार्यों के अनुसार बनाये जायें। उन्होंने हर राउण्ड की फीडिंग समय से पूर्ण कराने के लिए सम्बन्धित एआरओ को जिम्मेदारी सौंपी है, साथ ही उनकी सहायता के लिए सहायकों की भी नियुक्ति किये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने आरओ टेबल पर सभी व्यवस्थाओं को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए राजपत्रित अधिकारी को नियुक्त करने के भी निर्देश दिए।

उन्होंने सभी सम्बन्धित एआरओ को निर्देशित किया है कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार प्रत्येक विधानसभा की 05 वीवीपैट मशीनों की पर्चियों का मिलान कन्ट्रोल यूनिट्स के अनुसार किया जाय, जिसके लिए वीवीपैट मशीन का चुनाव रैण्डमली लाटरी सिस्टम के आधार पर किया जायेगा तथा चयनित वीवीपैट मशीन की पर्चियों की गणना वीवीपैट काउण्टिंग बूथ में होगी, यह सम्पूर्ण प्रक्रिया माइक्रो आब्जर्वर की उपस्थिति में वीडियोग्राफी कराते हुए सम्पन्न कराई जायेगी तथा वीवीपैट मशीन की पर्चियों का सम्बन्धित प्रपत्र पर अंकन करने के उपरान्त अलग से सील की जायेंगी।

बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती प्रतिभा सिंह, अपर जिलाधिकारी (नगर) श्री अनूप कुमार, अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) श्रीमती शुभांगी शुक्ला, अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) श्री धिरेन्द्र सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट श्री वेद सिंह चौहान एवं समस्त उप जिलाधिकारी, सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

मंडलायुक्त ने मंडल की समस्याओं को लेकर की समीक्षा बैठक

मंडलायुक्त रितु माहेश्वरी की अध्यक्षता में पर्यावरण बंदरों की समस्या इको टूरिज्म एवं वृक्षारोपण इत्यादि के संबंध में समीक्षा बैठक की गई। बैठक में नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल ने बंदरों की समस्या को लेकर अवगत कराया के उनके समाधान हेतु वर्तमान में अनुबंध संस्था द्वारा दयालबाग में रेस्क्यू सेंटर संचालित किया जा रहा है, अब तक लगभग 11000 बंदरों को पकड़कर वैक्सीनेशन/नसबंदी करने के पश्चात पुनर्वास किया चुका है, वही आवारा स्वानों के लिए चार केंद्र संचालित हैं, जिनमें अभी तक 45000 से अधिक स्वानों की वैक्सीनेशन/नसबंदी की जा चुकी है, वर्तमान में संचालित उपरोक्त केंद्रों की समीक्षा करते हुए, मंडलायुक्त ने निर्देश दिए हैं कि अगर नगर निगम द्वारा आवारा स्वानों एवं बंदरों के लिए रेस्क्यू पुनर्वास केंद्र खोलने हेतु एक प्रोजेक्ट तैयार किया जाए, इस केंद्र पर ट्रीटमेंट होने के बाद स्वानों की ही तरह बंदरों को चिन्हित किया जाए, ताकि यह जानकारी रहे की कितने बंदरों का प्रोपर ट्रीटमेंट हो चुका है।

वन विभाग के द्वारा यमुना न्यू गार्डन और ताजमहल के आसपास से बड़े नालों से यमुना नदी में सीधे गिर रहे है, गंदे पानी, कचरा और सिल्ट की समस्या रखी गई, जिसे लेकर अवगत कराया गया कि यमुना नदी में सीधे गिरने वाले नालों की टाइपिंग करने के साथ ही वॉटर ट्रीटमेंट एवं बायो रिमेडियेशन का कार्य चल रहा है, लगभग 20 नालों को टैपिंग कर दिया गया है 23 नालों को टैपिंग किए जाने का कार्य प्रगति पर है, जबकि 38 और नए नालों की डीपीआर बनाकर स्वीकृति हेतु शासन में दिया चुका है। समीक्षा बैठक के दौरान मंडलायुक्त ने निर्देश दिए हैं कि यमुना नदी में गिरने वाले सभी नालों में सॉलिड वेस्ट को रोकने हेतु जाली लगाई जाए, ताजमहल के पास जालमा इंस्टिट्यूट के पीछे से जा रहे बड़े नालों को टैप करने के साथ बैरिकेटिंग लगाकर कवर किया जाए।

वन विभाग के द्वारा इको टूरिज्म विकसित करने से संबंधित प्रोजेक्ट का प्रस्तुतीकरण किया गया, ताजगंज स्थित आगा खां हवेली से लेकर हाथी खाना होते हुए यमुना किनारे क्षेत्र तक और बटेश्वर में होलीपुरा गांव को एक टूरिज्म के रूप में विकसित करने के प्रोजेक्ट की समीक्षा करते हुए इनका एस्टीमेट तैयार कर प्रोजेक्ट शासन को भेजने के निर्देश दिए हैं, वृक्षारोपण अभियान के अंतर्गत बैठक में मौजूद नगर निगम, उद्यान विभाग, वन विभाग एवं एएसआई को निर्देश दिए हैं कि सभी विभाग अपने-अपने क्षेत्र को ग्रीनरी से पूरी तरह विकसित करने का लक्ष्य लें, हाईवे, शहर की मुख्य सड़क, पार्क, एप्रोच रोड के किनारे, सेंट्रल वर्ज, डिवाइडर, ताजमहल सहित अन्य स्मारकों के आसपास तथा एक बड़े भूभाग में व्यवस्थित रूप से हरियाली विकसित करने हेतु अधिक से अधिक वृक्षारोपण किया जाए।

जूता कारोबारी के यहां खत्म हुई आयकर विभाग के रेड, करोड़ों रुपए हुए बरामद

आयकर विभाग के द्वारा आगरा में तीन जूता इकाइयों पर छापामार कार्रवाई की गई थी। आयकर विभाग ने शनिवार को अपने गुप्त सूत्रों की सूचना के आधार पर छापा मारा था, 80 घंटे चली जूता कारोबारी के यहां रेड में आयकर विभाग ने करोड़ों रुपए बरामद किए है, जिसमें सबसे ज्यादा रुपए रामनाथ डंग की हरमिलाप शूज कंपनी के यहां से प्राप्त की है। पुलिस ने हरमिलाप डंग के यहां से 53 करोड़ कैश बरामद किया है, तो वही बीके शूज कंपनी एवं मंशु फुटवियर के यहां से 4 करोड़ रुपए की बरामदगी हुई है। आयकर विभाग की छापामार कार्रवाई के दौरान कुल 57 कैश की बरामदगी हुई है। आयकर विभाग की कई टीमों ने मिलकर तीनों तीनों जूता कारोबारियों के 14 ठिकानों पर छापामार कार्रवाई की थी, जानकारी के अनुसार तीनों जूता कारोबारी के यहां से टीम ने करोड़ों रुपए की ज्वेलरी भी जब्त की है, जूता कारोबारियों के द्वारा जमीन और जेवरात में करोड़ों रुपए इन्वेस्ट किए गए थे।

छापामार कार्रवाई के दौरान आयकर विभाग की टीमों को कई अहम दस्तावेज प्राप्त हुए हैं, जिसमें सामने आया है कि जूता के कारोबार में पर्ची का सिस्टम चलता है, और 30 करोड़ रुपए की जूता की पर्चियां भी बरामद की गई है, बीते कल आयकर विभाग की टीमों के द्वारा 56 करोड़ रुपए की नगदी स्टेट बैंक में जमा करवा दी थी। आयकर विभाग के द्वारा जूता कारोबारी पर की गई छापामार कार्यवाही खत्म हो चुकी है, आयकर विभाग ने 80 घंटे तक जूता करो के यहां कार्रवाई की है।

आगरा में गर्मी का सितम जारी, सामान्य से 4.3 डिग्री सेल्सियस अधिक पहुंच तापमान।

आगरा वासियों को पिछले 15 दिनों से भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है, और पिछले कई दिनों पूरे उत्तर भारत में आगरा सबसे गर्म शहर रहा है। प्रशासन के ओर से एडवाइजरी जारी की गयी है कि अगर वसियों को आने वाले 15 दिनों तक चिलचिलाती गर्मी का सामना करना पड़ेगा। आज का तापमान भी 45 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया। इस वजह से आगरा वासियों गर्मी से जद्दोजहद करनी पड़ रही है। सुबह 6 बजे से ही लोगों को गर्मी महसूस होने लगती है, और 10 बजे तो सड़क सुनसान हो जाती हैं। लेकिन मजबूरन लोगों को अति आवश्यक के कार्य होने की वजह से बाहर निकालना पड़ता है, इसी को देखते हुए प्रशासन की ओर से लगातार एडवाइजरी जारी की जा रही है, जिसमें लोगों से अपील की जा रही है कि अति आवश्यक कार्य होने पर ही अपने शरीर को अच्छी तरह से ढक कर बाहर निकलें।

प्रशासन की ओर से हीट वेव यानी (लू) को लेकर रेड अलर्ट जारी किया हुआ है, अगर दिन के समय कोई व्यक्ति घर से बाहर निकलता है, तो ऐसा लगता है कि शरीर पर आग बरस रही हो, रात के समय भी गर्म हवाओं का ही सामना करना पड़ रहा है, आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर लगे बिग स्क्रीन इंडिकेटर में कल का तापमान 47 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया, इस चिलचिलाती गर्मी में प्रशासन के द्वारा आमजन से अपील की गई है, क्योंकि गर्मी की वजह से लोगों को हैजा, उल्टी, पेट दर्द, चक्कर आना आदि दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, प्रशासन की ओर से जिला अस्पताल में कोल्ड रूम भी बनाए गए हैं, हीट वेव यानी (लू) को देखते हुए मेडिकल स्टाफ को लगातार प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। प्रशासन की ओर से जारी की गई एडवाइजरी में अपील की गई है कि आमजन अपने शरीर को हाइड्रेट रखें समय-समय पर तरल पदार्थों का उपयोग करें व बाहर निकलने पर अपने शरीर को ढक कर रखें।

आगरा में पहली बार रिक्रिएशन डेमो के तहत पहली बार किया गया क्राइम सीन

पुलिस कमिश्नरेट आगरा लगातार अपराधों व अपराधियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी के लिए प्रयासरत है। इसी क्रम में कमिश्नरेट आगरा में पहली बार रीक्रिएशन डेमो के जरिए क्राइम सीन किया गया इस क्राइम सीन रीक्रिएशन कर पुलिस कर्मियों को टिप्स भी दिए, इस दौरान पुलिसकर्मियों को डमी शव के साथ क्राइम सीन सुरक्षित करने की जानकारी दी गई, जिले में आए हुए अंडर ट्रेनिंग दरोगाओं को यह जानकारी दी जा रही है।

एडीसीपी क्राइम ने बताया है कि जिले में आए हुए अंडर ट्रेनिंग दरोगाओं को यह है जानकारियां दी जा रही हैं उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर पहुंचते ही वीडियो ग्राफी और फोटोग्राफी होनी चाहिए वही कार्य योजना तैयार कर सर्कल के एसीपी से अनुमोदन कराएं और वादी को समयाविधि की जानकारी अवश्य देनी चाहिए। एडीसीपी क्राइम ने बताया है की हत्या दुष्कर्म, धोखाधड़ी की विवेचना में चेक लिस्ट को शामिल किया जाए, वही अपराधियों का डाटा पहचान ऐप और त्रिनेत्र ऐप पर डाला जाएगा, बड़े क्राइम के खुलासे के लिए हर छोटा सबूत अहम होता है। क्राइम सीन रिक्रिएशन डेमो में एडीसीपी क्राइम, एसीपी छत्ता एवं चार थानों का पुलिस फोर्स मौजूद रहा। इस दौरान फील्ड यूनिट को भी बुलाए गया।

एडीसीपी क्राइम ने बताया है कि रीक्रिएशन डेमो क्राइम सीन किया गया है, जिसमें सस्पेक्टेड केश बलात्कार साथ हत्या का लिया गया है, एक महिला का डमी इस्तेमाल किया गया है, उन्होंने बताया कि खून का कतरा और बाल से भी सजा दिला सकते हैं। और इसमें सस्पेक्ट केस इस्तेमाल किया गया है, हमारे जो अंडर ट्रेनिंग सब इंस्पेक्टर्स और जो ऑफिसर्स है, उनको बुलाया गया साइंटिफिक एविडेंस कैसे कलेक्ट करेंगे, इसकी जानकारी उनको दी गई है, और जो क्राइम सीन है उसको कैसे इंस्पेक्ट करेंगे जिससे कि केस जल्दी वर्कआउट हो सके और अंत तक इस प्रकार से विवेचना की जा सके कि जो हमारा एक्यूज्ड है उसको सजा दिलाई जा सके।

आईटी के छापे के दौरान जूता कारोबारी के घर से 500 500 के नोटों के 11200 बंडल मिले। बैंक में जमा कराया 56 करोड़ कैश।

आगरा में आयकर विभाग के द्वारा शनिवार को जूता कारोबारी रामनाथ डंग के हींग की मंडी स्थित हरमिलाप ट्रेडर्स जो कि जयपुर हाउस के निवासी हैं। सुभाष मिड्ढा और अशोक मिड्ढा के बीके शूज सुभाष पार्क एमजी रोड और हरदीप मिड्ढा के मंशू शूज ढाकरान चौराहे सहित एक साथ 14 ठिकानों पर छापामार कार्यवाही की है। कार्रवाई के दौरान 56 करोड़ कैश बैंक में जमा करवा दिया गया है। आयकर विभाग की टीम ने एक अलमारी से 500 के नोटों के 11200 बंडल प्राप्त किए हैं, जिन्हें दो वैन में भरकर स्टेट बैंक में जमा करवा दिया गया है।

इसमें सबसे ज्यादा कैश हरमिलाप ट्रेडर्स के यहां से मिला है, जिसमें दो फीट गहरी अलमारी, तिजोरी और डबल बेड में 500 500 के नोटों की गड्डियां रखी हुई मिली है, आयकर विभाग की टीम ने हरमिलाप ट्रेडर्स से 53 करोड़ रुपए, बीके शूज से एक करोड़ और मंशू फूटवियर से 2.5 करोड़ रुपए की नगदी बरामद की है। आयकर विभाग के छापा मार कार्रवाई के दौरान करोड़ों रुपए की पर्चियां मिली है, कारोबारी के लेनदेन की पर्चियां है, इनकी भी जांच की जा रही है, इस दौरान कई अन्य दस्तावेज भी मिले हैं, आयकर विभाग की टीम उनकी जांच पड़ताल में जुटी हुई है।

वाइल्डलाइफ एसओएस में मनाया गया विश्व जैव विविधता दिवस, जानिए कैसे बचाए गए हाथियों ने बंजर जमीन को एक स्वर्ग जैसे अभयारण्य में बदला है।

22 मई को विश्व जैव विविधता दिवस मनाया जाता है इसके उपलक्ष्य में वाइल्डलाइफ एसओएस आगरा दिल्ली हाईवे स्थित उनके हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र में बचाए गए हाथियों के उल्लेखनीय योगदान पर प्रकाश डालता है, हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र संकट और दुर्व्यवहार से बचाए गए 30 से अधिक हाथियों के लिए एक अभयारण्य बन गया है, इसे 2010 में स्थापित किया गया था यह केंद्र एक संपन्न पारिस्थिति का तंत्र भी बन गया है, जिसका बड़ा हिस्सा स्वयं हाथियों को जाता है, हाथियों को कीस्टोन प्रजाति के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है कि उनकी उपस्थिति और गतिविधियों को उनके पर्यावरण पर बड़ा प्रभाव पड़ता है, हाथी संरक्षण और देखभाल केंद्र में यह प्रभाव स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है, जहां हाथियों ने अपने परिवेश को एक समृद्ध जैव विविधता के रूप में बदल दिया है।

जैसे की वह केंद्र में घूमते हैं, हाथी चरते और शौच करते समय स्थानीय वनस्पतियों और जीवों की बहाली और वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे अपने आहार में केवल 35-40% पोषक तत्व ही पचा पाते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके मल में बिना पचे बीज और अनाज प्रचुर मात्रा में होते हैं। यह हिरण, पक्षियों और छोटे स्तनधारियों सहित विभिन्न जानवरों के लिए एक मूल्यवान भोजन स्रोत है, और बल्कि एक प्राकृतिक फ़र्टिलाइज़र के रूप में भी कार्य करता है, जो नए पौधों के विकास को बढ़ावा देता है।

सुबह और शाम की अपनी लंबी वॉक के दौरान हाथी इन बीज को कई किलोमीटर तक फैलाते हैं, पेड़ों से फल खाकर हाथी अपने निवास स्थान के भीतर वनस्पति की विविधता को बढ़ाते हैं, केंद्र में इससे विभिन्न पेड़ों और पौधों की वृद्धि हुई है, केंद्र की स्थापना के बाद वाइल्डलाइफ एसओएस ने परिसर के भीतर विभिन्न पौधों और जानवरों की प्रजातियां में धीरे-धीरे वृद्धि देखी है।

केंद्र परिसर के आसपास हाथियों द्वारा कई देसी पौधों की प्रजातियों का प्रचार-प्रसार हुआ है, जिनमें आम, कद्दू, अंगूर शामिल हैं। इस हरी-भरी हरियाली के कारण पक्षियों की प्रजातियों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है, जो केंद्र शुरू होने के समय केवल 15 से बढ़कर अब 70 से अधिक प्रजातियाँ हो गई हैं। इनमें से कई पक्षी प्रवासी हैं और अब मौसम के दौरान अक्सर देखे जाते हैं। इसके अतिरिक्त, साँपों और मॉनिटर लिज़र्ड जैसे अन्य सरीसृपों की सात प्रजातियों को हरियाली के बीच एक घर मिल गया है। तितलियाँ, जो पहले कभी-कभार ही पाई जाती थीं, अब इस क्षेत्र में कम से कम छह अलग-अलग प्रजातियाँ पाई जाती हैं।

वाइल्डलाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ, कार्तिक सत्यनारायण बताया है कि हमारे द्वारा बचाए गए हाथियों को न केवल एक अभयारण्य मिला है, जहां वे शांति और संतुष्टि में रह सकते हैं, बल्कि वे प्रकृति के सच्चे संरक्षक भी बन गए हैं। केंद्र में उनकी उपस्थिति स्थानीय जैव विविधता पर गहरा प्रभाव डालती है, और यह हाथियों द्वारा अपने आवास में निभाई जाने वाली महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाती है।वाइल्डलाइफ एसओएस की सह-संस्थापक और सचिव, गीता शेषमणि ने कहा, “जब केंद्र की स्थापना की गई थी, तब हमारा लक्ष्य बचाए गए हाथियों के लिए एक प्राकृतिक वातावरण बनाना था। हमने कई देसी पेड़ लगाए, जिनमें मियावाकी जंगल भी शामिल है। तब से, हाथियों द्वारा बीज बिखेरने के कारण कई नए पेड़ उग आए हैं।

अस्पताल की जगह रेलवे स्टेशन पर हुई महिला की डिलीवरी।

राजा मंडी रेलवे स्टेशन का एक मामला सामने आया है, जिसमें RPF का सराहनीय कार्य सामने आया है, भिक्षावृत्ति करने वाली एक महिला गर्भवती थी, वह राजा की मंडी रेलवे स्टेशन पर माैजूद थी, महिला के पेट में दर्द होने लगा, जब RPF ने गर्भवती महिला को परेशान होते हुए देखा, तो तत्काल उसके पास पहुंची और RPF द्वारा गर्भवती महिला चारों ओर कपड़ा डालकर पर्दा किया, फिर महिला स्टाफ के साथ मिलकर मेडिकल स्टाफ ने प्रसव कराया। राजा की मंडी स्टेशन पर महिला RPF और मेडिकल स्टाफ ने मिलकर महिला की सकुशल प्रसव कराया है।

जिससे आरपीएफ का सराहनीय कार्य सामने आया है, इसके बाद आरपीएफ ने महिला व नवजात शिशु को एंबुलेंस के द्वारा अस्पताल में शिफ्ट कराया है। इस दौरान महिला RPF ने नवजात शिशु के साथ फोटो भी खिंचवाये हैं, सकुशल प्रसव होने के बाद महिला ने RPF और महिला स्टाफ धन्यवाद किया है।

एसिड अटैक पीड़िताओं के द्वारा म्यूजिक और हैप्पीनेस कार्यक्रम का किया गया आयोजन।

फतेहाबाद रोड स्थित टूरिस्ट कांप्लेक्स में एसिड अटैक पीड़िताओं के द्वारा म्यूजिक और हैप्पीनेस कार्यक्रम का आयोजन किया गया, इस दौरान स्थापित एक्सपोर्टर प्रख्यात फोटो ग्राफर और कार रैली ड्राइवर के रूप में राष्ट्रीय पहचान रखने वाले हरविजय सिंह वाहिया के द्वारा म्यूजिक और हैप्पीनेस प्रोग्राम में मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित किया, उन्होंने कहा कि संगीत सुखात्मक अनुभूति देने के साथ ही मानव स्वास्थ्य के लिए भी अनुकूल है, उन्होंने कहा कि संगीत का स्वास्थ्य से सीधा संबंध है, संगीत का श्रवण स्वर और श्वांस से सीधा संबंध है, यह तीनों ही मानव शरीर से जुड़ी स्वाभाविक प्रतिक्रियाएं हैं, चाहे संगीत गायन के रूप में हो या फिर वाद्य यंत्र का श्वास और श्रवण तंत्र को प्रभावित करता है।

वाहिया जी ने कहा भजन गीत कविता या शास्त्रीय ग्रंथों के श्लोक हो अगर सस्वर गए जाते हैं। यह गाने वाले के साथ ही श्रोता के शरीर के इंद्री तंत्र को प्रभावित करते हैं, जो एक स्वस्थ अनुल प्रक्रिया है। इस दौरान वाहिया जी ने कहा कि अपने कॉलेज के दिनों में साथियों के लिए संगीत कार्यक्रम में आयोजनों में सहयोगी रहने की स्मृतियां अब भी हैं, किताब लिखने और फोटोग्राफी करने के उनके शौक से भरपूर उनकी जिंदगी में रहने वाली व्यस्तताओं के बीच जब भी मौका मिलता है, संगीत सुनते हैं और स्वयं भी गाना गुनगुनाने से नहीं चूकते।

एसिड फेंक कर ताजिंदगी कभी न भूलने वाली काली करतूत की घटनाओं से पीड़िताओं में से दो गाने का अभ्यास करने वाले ग्रुप में भी शामिल हो गईं, इन दोनों ने महसूस किया के संगीत कार्यक्रम में सहभागी बनने से उनके जीवन में हैप्पीनेस की वृद्धि होती है इनमें से एक नगमा ने कहा कि उसकी शोक राहतकारी रहा है उसने ताज महोत्सव में इस साल अपने ग्रुप के साथ गायिका के रूप में भाग लिया था, यह अवसर उनके लिए सुखान्वित करने वाला था वह चाहेगी कि इस प्रकार के आयोजनों की संख्या में बढ़ोतरी हो, जिससे उसे म्यूजिक और सिंगिंग ग्रुप को अधिक अवसर मिले।

आशीष शुक्ला ने कहा की समूह के रूप में जब कोई गतिविधि करते हैं, तो परस्पर समझ के अवसर बढ़ते हैं, यह छटवां कार्यक्रम है उन्होंने कहा कि समिति के किसी भी वर्ग का व्यक्ति हो मानव स्वभाव के अनुरूप से उसके एक-दो शौक या वृत्तियां जरूर होती हैं, जिनमें से गाना और अपने से जुड़ा इतिहास के प्रति रुचि भी हैं। इस अवसर पर विक्रम शुक्ला ने कहा कि अगर एसिड अटैक प्रभावितों में से कोई सिंगिंग का शौक रखती है तो वह उन्हें निशुल्क संगीत का प्रशिक्षण देना प्रस्तावित करते हैं।

सिंगिंग और हैप्पीनेस कार्यक्रम के दौरान असलम सलीमी, राम मोहन कपूर , कॉल शिव कुंजरू, राजीव खंडेलवाल, सीमा खंडेलवाल, कांति, बीके शर्मा, अशोक अगरवाल, विवेक जैन,रोज़ मेरी शुक्ला, संदीप देवरानी, विशाल रियाज़, पूजा देवरानी, मनोज तेंगुरिया, नवबुड्डीन,डॉ एस के चंद्रा, सुमिता रॉय, मेघा दूबे, मधुकर चतुर्वेदी, जसपाल, कल्पना शुक्ल, रफीक अहमद, स्पर्श मितल, रोशनी, प्रदीप, लता दौलतानी, वेद त्रिपाठी, ज्योति खंडेलवाल, विशाल झ, डॉ रश्मि त्रिपाठी, योगेश शर्मा, अमित रॉय आदि उपस्थित रहे।

शौचालय मिले गंदे, संस्था पर नगर निगम में 13 लाख रुपए का लगाया जुर्माना,जानिए पूरा मामला

आगरा नगर निगम के द्वारा विभिन्न स्थानों पर सामुदायिक शौचालय बनाए गए हैं, स्वच्छ भारत मिशन के तहत इन शौचालय को बनाया गया है, इन शौचालयों का रख रखाव ठीक से नहीं किया जा रहा है, इसी को लेकर नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल ने खुद इनका निरीक्षण किया है, एवं कमियां मिलीं तो उसके लिए नाराजगी भी जाहिर की है। इस दौरान नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल ने कड़ी कार्रवाई करते हुए इन्हें संचालित करने वाली संस्था पर लगभग 13 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है।

नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल ने बताया है कि नगर निगम क्षेत्र में 133 नगर सामुदायिक शौचालय हैं, और इनका रखरखाव मैसर्स एक्ने एक्सीलेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड करती है। नगर निगम के अधिकारियों की लगातार इन शौचालय पर नजर बनी रहती है, लेकिन गत माह निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त ने इनमें कमियां पाई थी, इसी को लेकर नगर आयुक्त के द्वारा यह कार्रवाई की गई है, जिसमें टाइल्स टूटे हुए थे, कहीं नलों की टोटियां गायब थी, एवं साफ सफाई के लिए कुछ भी सामान जैसे हाथ धोने का साबुन, सफाई के लिए हार्पिक नहीं मिला, शौचालय के बल्ब खराब थे, जांच टीम के द्वारा इसकी रिपोर्ट सहायक नगर आयुक्त अशोक प्रिय गौतम को दी गई, उनके द्वारा संस्था पर जुर्माना आरोपित कर रिपोर्ट नगर आयुक्त अंकित खंडेलवाल को भेज दी गई, इसके बाद खुद नगर आयुक्त के द्वारा सार्वजनिक शौचालय का निरीक्षक किया गया, एवं उन्हें भी स्थान पर तमाम कमियां मिलीं इसी को लेकर संस्था पर लगभग 13 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

3 वर्ष पहले इस संस्था को सामुदायिक शौचालय का रखरखाव की जिम्मेदारी सौंपी गई थी, नगर निगम की ओर से इन संस्थाओं को प्रति सीट के 8000 रुपए दिए जाते हैं, जबकि छोटे-छोटे मरम्मत कार्य भी नगर निगम के द्वारा ही किए जाते हैं, वर्तमान संस्था को नगर निगम की ओर से सीट के हिसाब से एक मुश्त भुगतान किया जा रहा है, इस संस्था से पहले की संस्थाओं के द्वारा सामुदायिक शौचालय के रखा में बरती जा रही लापरवाही के कारण ही उन्हें हटाया गया था। मैसर्स एक्ने एक्सीलेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को शौचालय के रखाव के लिए 5 साल के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई है यानी ठेका दिया गया है।

धोखाधड़ी कर खाते से निकलता था पैसा, अब चढ़ा पुलिस के हत्थे

आगरा की थाना शमशाबाद पुलिस बस साइबर टीम के द्वारा केवाईसी अपडेट का झांसा देकर धोखाधड़ी करके खाते से पैसे निकालने वाले एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है। वादी संतोष कुमार के द्वारा थाना शमशाबाद पर प्रार्थना पत्र दिया गया था जिसमें वादी के साथ पेटीएम कर्मचारी ने धोखाधड़ी करके प्रार्थी की सिम नंबर को अपने नाम पर ट्रांसफर कर लिया और वादी की पत्नी के केनरा बैंक के खाता संख्या से रजिस्टर मोबाइल नंबर से ओटीपी लेकर वादी की पत्नी के खाते से 82500 निकाल लिए।

पुलिस ने इस सूचना पर तत्काल कार्रवाई करते हुए सहायक पुलिस आयुक्त के पर्यवेक्षण में प्रभारी निरीक्षक शमशाबाद के नेतृत्व में विवेचक द्वारा अपनी टीम के साथ फ्रॉड के संबंध में डाटा एकत्र किया गया, तथा राशि को फ्रीज कराया गया, थाना शमशाबाद पुलिस क्षेत्र के गांधी चौराहे पर चेकिंग कर रही थी, पुलिस के द्वारा वादी की निशानदेही पर टैक्सी स्टैंड के पास से अभियुक्त योगेंद्र को गिरफ्तार किया गया है, पुलिस ने इसके कब्जे से1000 रुपए नगद, दो फर्जी आधार कार्ड, एक मोबाइल, तीन सिम कार्ड बरामद किए हैं।